Skip to main content

इसके बारे में बहुत कम चर्चा हुई है - Suzlon the unnoticed multibagger .

Suzlon के शेयर के बारे में मैने काफी कुछ लिखा है । मैं इसे कई सालो से ट्रैक  कर रहा हु । उन्हीं पर किए हुए कई ट्वीट आपको
ट्विटर Twitter.com/Gujaratbull पर। 
मिल जाएंगे जिसमे 2016 में किया हुआ वो ट्वीट भी है जब इसी कंपनी में कुछ जान आने की संभावना दिख रही थी । वैसे आईपीओ और उसके कुछ समय के बाद सुजलॉन कई लोगो की दिलोजान थी । उसने कई लोगो को आईपीओ में मालामाल कर दिया था । एक प्रख्यात बिजनेस चैनल के पत्रकारने भी मुझे ऐसी ही कहानी बताई थी ।  उस वक्त आईपीओ के एलॉटमेंट के  बारे में भी काफी कुछ चर्चा हुई थी मगर इस वक्त वो बात नहीं छेड़नी है । अभी तो नीचे दिया गया चार्ट देखिए । 
आईपीओ के बाद भी इस शेयर का भाव डबल से ज्यादा हुआ था । 2008 में इसने 400 रूपये के ऊपर ट्रेड करना शुरू कर दिया था मगर फिर लिहमान ब्रदर वाली मंद में गिरना शुरू हुआ और फिर कभी संभला ही नही । कई लोगो को आशा थी की इसकी यूनिक प्रोड्यूस होने के  कारण ये फिर से नया हाई लगाएगा मगर ऐसा कुछ हुआ नहीं । इसके पीछे  कई कारण थे ,मुझे जो लॉजिकल लगा वो सुजलॉन द्वारा बनाई जा रही विंडमिल की ब्लेडो से जुड़ा इश्यू था जो कई अच्छे अच्छे एनालिस्ट के ध्यान में नई आया था और अगर आया भी था तो उस पर ध्यान नहीं दिया था । जब मेरे ध्यान में ये आया तब  Suzlon share price करीब 350 रुपए था । वो रिपोर्ट के बाद मैने पहला काम क्लाइंट्स को चेताने का किया और साफ तौर पर कहा की अब इस शेयर में से निकल जाना बहेतर है , मेरी राई माननी या ना माननी वो आपकी मर्जी की। उस वक्त मेरे पास तो ये शेयर थ ही नहीं तो मेरे लिए तो कोई सवाल नही था । खेर इसके बाद मैने इसे मेरे वॉच लिस्ट से निकाल दिया था । 
     2016 के करीब फिर से मैने सुजलॉन को ट्रैक करना शुरू किया मगर उस वक्त उसके पीछे का लॉजिक बदल गया था । तभी ,गुजराती ट्रेडर बाला लॉजिक था । इसी समय के दरमियान मैने GujaratBull के ट्विटर हैंडल पर भी उसे कवर करना शुरू किया था ।उसी वक्त कई निवेशकों की नजर भी सुजलॉन पर गई थी । 
सुजलॉन के लिए 2016 की शुरुआत भी अच्छी रही थी और इसी कारण निवेशक में आशा बंधी थी । इसी पर मैने ट्वीट भी किया था । 
इसी समय दरमियान सुजलॉन में थोड़ा ट्रेडिंग भी कर लिया । फिर क्या ? फिर इसी कंपनी के शेयर ने अपना मूलभूत स्वभाव दिखाया और लुढ़कना शुरू हुए । वो इस कदर गिरे के लोग 2 रुपए पर भी लेने को तैयार नहीं थे । ये 2 साल पहले की ही बात है । इसी समय के दरमियान कई लोगो ने पूछना शुरू कर दिया था की सुजलॉन के शेयर ले सकते है ? मेरा जवाब था की लॉटरी के तौर पर तो जरूर ले सकते है :) । ऐसा ही जवाब मैने  Tanla share पर भी दिया था जो आज आसमान से नीचे आने के लिए तैयार नहीं । 
 " सर , सुजलॉन में Tanla जैसा हो सकता है ?"  इसका जवाब देना मुश्किल है । हा ,इतना जरूर कहूंगा जो मैं पहले भी कह चुका हु । सुजलॉन कोई फालतू कंपनी नहीं है । वो capital goods की कैटेगरी वाली कंपनी है । ऐसी कंपनी एक रात में खड़ी नहीं हो सकती । ये कोई mobile app वाली कंपनी नहीं है जो कुछ महीने के खड़ी हो जाए । आजकल ऐसी कंपनी की भरमार लगी हुई है और निवेशक उनके पीछे दौड़ रहे है ! सुजलॉन का रूतबा इससे तो कई गुना बड़ा है । आज ग्रीन एनर्जी पर बहुत ही ज्यादा जोर दिया जा रहा है और सुजलॉन इसी कैटोगिरी में तो आती है । हाल ही के समय में उसे काफी नए कॉन्ट्रैक्ट मिले है । कुछ महीने पहले मुझे लगा था  की ये टेक ओवर का कैंडिडेट हो सकती है । मैने पोल  भी करवाया था । देखिए । 
यहीं वो वक्त था जब सुजलॉन में टेक्निकल ट्रेक्शन शुरू हुआ था । शेयर के भाव 6 रूपये के आजूबाजू चल रहे थे ,आज 10 के ऊपर है । यानी की करीब 75% रिटर्न । नीचे दिया गया चार्ट देखिए । सुजलॉन  पिछले 2 साल में मल्टीबैगर साबित हुआ है ,2.40 पैसे से 10.65 ।

  पोल में बताई हुई बात को   नकारा नहीं जा सकता  है । अगर ये हो गया तो निवेशक की बल्ले बल्ले । 

डिस्क्लेमर : 1.मेरा इस शेयर मेरे फैमिली मेंबर्स और क्लाइंट का इस शेयर में निवेश है ।2 .ये लेख को शेयर खरीदने की सलाह ना माने । 3 . इस शेयर   टेक्निकल लेवल की स्टडी पाने के लिए  


WhatsApp  
 https://wa.me/message/WATT5TGNYEETF1 

https://wa.me/message/WATT5TGNYEETF1

Popular posts from this blog

RBI credit policy

 Today RBI will review credit policy . RBI’s six-member Monetary Policy Committee (MPC)   is meeting second time after demonetization .   Market is expecting  25 basis points cut in repo rate . Repo rate is short form of repurchase rate .It is also known as short term lending rate. RBI lends money to commercial bank as per this rate . Low repo rate is not only beneficiary to commercial bank but also to industry .  Commercial banks can lend money at low rate to industry if they get benefited  from RBI .       In last meeting MPC had  left repo rate unchanged to 6.25 % . The decision was taken considering some internal as well as external factors .  The  main external factors which were considered by MPC were possible rate hike by US fed and rising oil price as well as US dollar . At present US federal reserve has preferred pause for rate hike but concern of rising oil price has not gone away . Rising oil prices is a  challenge to India’s growth. Economic Survey presented in Parl

कल अप्रेल सीरीज की Nifty की एक्सपायरी कहा हो सकती है ?

25 April को Nifty future ने नीचे दिया गया रेसिस्टेंस जॉन बनाया था ।      कल अच्छी खबर के चलते मार्केट थोड़ा उछल गया था मगर आज फिर फिसला है । इनके बाबजूद डबल बॉटम फॉर्मेशन टूटा नहीं है । ये पैटर्न और आज के डाटा देखते हुए निफ्टी की अप्रेल सीरीज की समाप्ति नीचे दिए गए जॉन में संभव है ।    सपोर्ट जॉन 17930 to 16970  रेसिस्टेंस जॉन 17110 to 17180    हमसे जुड़ने के लिए ईमेल : GujaratBull.com@gmail.com   Desclaimer : Above post is only for educational purposes.